25 Sep 2012

बहनों की इज्जत के छींटे भी सहने हैं


अर्थ के नाम पर हमेसा होता अनर्थ
सोच वही गुलामो की क्या होगा समर्थ
कभी देश था ये सोने की चिड़िया
आज बन गया है पिजड़े की चिड़िया
देश को लूटा बाहर वालों ने अब तक
देश लूट रहा अन्दर वाला अब तो
लूट का माल न मिले बराबर तो समझो
न भैया न बहना रास्ता अलग समझो
बोलियाँ लग रही हैं देश की आज
देखना है कौन बड़ी बोली लगता है आज
गाँधी की तस्वीर तुम रखते हो अपने पीछे
उसी तस्वीर के आगे करते हो गबन
जिसने दिया विश्व को रहने की सीख
आज वही सीखेगा सब्जी बेचना
देश की बोली लग चुकी है
देश की अर्थी उठने वाली है
खून के छींटे पड़ते थे दामन पर अब तक
अब तो बहनों की इज्जत के छींटे भी सहने हैं
दूध मलाई के देश में हो गया कैसे बवंडर
आज गाय काटी जाती है हर चौराहे पर 
आ जाओ ऐ भारत के वीरों फिर से
देश में जरुरत तुम्हारी आन पड़ी फिर से
यहाँ कोई नहीं आगे आने वाला है
सब बैठ तमासा देखने वाले हैं
भारत अब तक एक न हो पाया है
कुछ तुमने और कुछ मैंने इसमें कमाया है
पर इतना जरुर सोचना ऐ भारतीयों
इस कमाई में हम सबने क्या गंवाया है



No comments:

Post a Comment